Custom image

Principal's Corner

प्राचार्य का कोना

कक्षा/सह कक्षा अध्यापकों के कर्तव्य और जिम्मेदारियॉ

कक्षा अध्यापक विद्यालय प्रबंधन में :-

१) कक्षा में अनुशासन बनाये रखने मे कक्षा अध्यापक की सहायता करने हेतु एक जिम्मेदार कक्षा मॉनीटर चुनना ।

२) कक्षा अध्यापक की अनुपस्थिति में कक्षा को प्रभावी और सक्षम तरीके से नियंत्रित करने के लिये मॉनीटर को प्रशिक्षित करना ।

३) पानी बिजली और कागज बचाने के लिये कक्षा को नियमित रूप से निर्देश देना और अपने बडों,साथियों ,छोटों,पेड-पौधों तथा जानवरों के प्रति आदर भाव रखने की सलाह देना ।

४) कक्षा मे उचित और साफ यूनिफॉर्म,जूते,बालों तथा नाखूनों का नियमित निरीक्षण।

५) कार्यक्रम मे भाग न लेने वाले छात्रों के आत्म विश्वास को बढाना ।

६) किसी विषय विशेष में भाग न लेने के सम्बंध में विषय अध्यापक से बातचीत करना।

७) नियमित रूप से छात्रों के बस्तों का अनुचित /अवैधानिक /निषेध वस्तुओं के सम्बंध में औचक निरीक्षण करना ।

८) उपस्थिति पन्जिका शुल्क रसीद बुक तथा कॉशन डिफॉल्डर्स पर निगाह रखना और नियमित रूप से माता पिता से वार्ता करना ।

९) प्रत्येक छात्र के घर का पता और दूरभाष नम्बर का रखरखाव करना ।

१०) यह सुनिश्चित करना कि छात्रोंकी अनुपस्थिति से सम्बंधित छुट्टी के प्रार्थना पत्र और मैडिकल सनद अभिभावकों द्वारा भेजे जाते हैं और उन्हें फाइल में रिकॉर्ड करना

११) कक्षा मॉनीटर की सहायता से फर्नीचर ,ब्लैकबोर्ड ,डस्तर , अल्मारियोंऔर कूडेदानों की सुव्यवस्था पर विशेष जोर देते हुए कक्षा की सुरक्षा व साफ सफाई को सुनिश्चित करना ।

१२) खिडकी के शीशों बिजली के खटकों पंखों लाइटों तथा ब्लैक बोर्डआदि की मरम्मत या बदलाव को सुरक्षा की दृष्टि से सुनिश्चित करना और यह करेंयह न करें निर्देशों से सम्बंधित चार्ट्स का प्रदर्शन।

१३) किसी भी समस्या या घटना के सम्बंध में प्राचार्य को सूचित करना ।

१४) सभी छात्रों से इर-रेस्पिक्टिव ऑफ देअर पर्फॉमेंस अच्छे सम्बंध बनाना और उनमें आत्म विश्वास पैदा करना ताकि वे अद्यापक से मार्ग दर्शन हेतु वार्ता कर सकें ।

१५) हर समय विशेषत: छात्रों की जरूरत के समय उनकी पहुंच में रहना ।

१६) छात्रों में कक्षा और विद्यालय से जुडाव पैदा करना ।

१७) छात्रों में आपातकालीन परिस्थितियों में सुरक्षा मापदण्डों के प्रति सजगता पैदा करना।

१८) छात्रों का सुरक्षित आवागमन सुनिश्चित करना ।

उपस्थिति पंजिका का रखरखाव और पूर्णीकरण : -

१) छात्र का विवरण सभी मायनों में पूरा हो । नामांकन और विदड्रॉल रजिस्टर में तथा अभिभावकों द्वारा उनके बच्चों के नामांकन के समय जमा कराये गये प्रार्थना पत्रों में प्रविष्टियॉ समान हों

२) फी अबस्ट्रक्ट स्तम्भ हर माह पूरा और अपडेटेड हो । के.वि.सं. के निर्देशों के वर्तमान फी स्ट्रक्चर और दरों के अनुसार शुल्क वसूला जाये । किसी छात्र के शुल्क जमा न करने पर सम्बंधित अध्यापक उत्तरदायी होगा ।

३) फी अबस्ट्रक्ट स्तम्भ से सब टोटल व टोटल को ,शुल्क व जुर्माने के माहवार क्रम के सम्बंधित भाग में उचित रूप से लिखा जाये ।

४) शुल्क वसूलते समय बहुत सावधानी बरती जाए । कक्षा उपस्थिति पंजिका की सभी प्रविष्टियॉ सी- एस -५४ पंजिका तथा दैनिक शुल्क कलैक्सन रजिस्टर से मेल खाती हों ।

५) प्रत्येक छात्र की माहवार औसत उपस्थिति निकाली जाये ।अगले महीने में चढाई जाने वाली प्रविष्टियॉ ठीक तरह से चढाई जायें ।

६) के.वि.सं.एज्युकेशन कोड के अनुच्छेद ६० में दी गई आचार संहिता का प्रत्येक छात्र पालन करे ।

७) छात्र के जन्म तथा एससी./एसटी/ओबीसी से सम्बंधित प्रविष्टियॉ ठीक तरह से और लाल स्याही से लिखी जायें । लडके तथा लडकियों के नाम भिन्न रंगों की स्याही से लिखे जायें । बच्चे की जाति स्पष्ट रूप से रिकॉर्ड की जाये ।

II प्रात: कालीन सभा के दौरान कर्तव्य :-

१) कक्षा अध्यापक / सह कक्षा अध्यापक अपनी ‌– अपनी कक्षाओं के छात्रों के साथ प्रात: सभा में जायेंगे ।

२) कक्षा अध्यापक / सह कक्षा अध्यापक अपने ‌– अपने सम्बंधित छात्रों के साथ सभा की घंटी /ड्रम बीट के तुरंत बाद समय के प्रति प्रतिबद्धताऔर तत्परता का प्रदर्शन करेंगे ।

३) कक्षा अध्यापक / सह कक्षा अध्यापक द्वारा यूनिफॉर्म का निरीक्षण सुनिश्चित हो । छात्र लम्बाई के अनुसार बढते क्रम में एक सीधी कतार में खडे हों और दो छात्रों के बीच पर्याप्त स्थान हो ।

४) यह सुनिश्चित करें कि सभी छात्र निम्नंकित में प्रतिभागी हैं : - १) प्रार्थना २) शपथ ३) कम्युनिटी सॉन्ग ४) राष्ट्र गान ।

५) यह सुनिश्चित करें कि सभी छात्र अपनी ‌– अपनी कक्षाओं में कतार के अनुशासन को बनाये हुए पहुंचें ।

III स्थानांतरण सनद / विदड्रॉल फॉर्म को फाइल करते समय अनुकरणीय निर्देश :-

छात्र का नाम ,

अभिभावक का विस्तार्पूर्वक वर्णन (अभिभावक के विषय में ),( अभिभावक का विवरण ) ,जन्म तिथि , टीसी // विदड्रॉल फॉर्म पर अभिभावक के हस्ताक्षर ,पूर्व कक्षा के परिणाम का विवरण ,अंतिम शुल्क अदायगी का माह/वर्ष , स्थानांतरण सनद प्राप्ति का कारण , नामांकन संख्या , स्थानांतरण सनद संख्या तथा किताब संख्या ।

सभी प्रविष्टियों के निरीक्षण के बाद , कक्षा अध्यापक दिनॉक के साथ स्पष्ट हस्ताक्षर करें जिसमें 1 अप्रैल के बाद होने वाली स्कूल सभाओं की संख्या तथा छात्रों द्वारा भाग ली गई सभाओं की संख्या अंकित हो ।

नोट :- एक दिन में दो सभाओं का प्रावधान है । (पूर्वान्ह और अपराह्न)

IV छात्र द्वारा छुट्टी का पत्र लाने पर अनुकरणीय निर्देश :-

१)प्रार्थना पत्र को भली प्रकार जॉचा परखा जाये

२)अभिभावक के हस्ताक्षर अनिवार्य हैं

३) छुट्टी का कारण चैक किया जाये ।

४) कारण के उचित पाये जाने पर अध्यापक द्वारा निम्न्लिखित टिप्पणी के साथ प्रार्थना प्त्र को प्राचार्य के पास भेजा जाये –

१ अप्रैल से छात्र की कुल उपस्थिति संख्या ।

२. कुल उपस्थिति संख्या का प्रतिशत ।

३. कक्षा अध्यापक के हस्ताक्षर के साथ अनुमोदित/ अननुमोदित ।

नोट :-

१) के.वि.सं.नियमावली के अनुसार , सत्रकी अंतिम परीक्षा देने से पहले प्रत्येक छात्र की उपस्थिति ७५% होना अनिवार्य है ।

२) किसी भी छात्र को यूटी/असाइन्मेंट टैस्ट / कम्युनिटिव टैस्ट आदि जो कि सीसीई का एक भाग हों , छोडने की अनुमति नहीं दी जायेगी ।

३) कोई विश्वसनीय / उचित चिकत्सकीय केस होने पर ,सरकारी चिकित्सक / सैन्य चिकित्सक द्वारा जारी किया गया चिकित्सीय सनद उपलब्ध ( झूठे चिकित्सकीयसनद के प्रयोग से बचने के लिये ) कराया जायेगा ।

४) स्ववित्त अस्पतालों के सनद स्वीकार्य नहीं होंगे

V कक्षा अध्यापक / सह कक्षा अध्यापक के कर्तव्य :-

१) कक्षा का कमरा साफ सुथरा और व्यवस्थित हो ।

२) बैठने की व्यवस्था का ठीक प्रबंध हो ।

३) लडकों और लडकियों को अलग अलग बैठाया जाये ।

४) कूडेदान भरे हुये न हों ।

५) अल्मारियोंमें फैंकने योग्य सामग्री न रखी जाय ।

६) कक्षा में समय सारणी और हाउस चार्ट लगे हों ।

७) दीवार पत्रिका साफ और प्रभावशाली हों ।

८) कक्षा रंगीन चार्टों से सुसज्जित हों ।

९) श्यामपट्ट पर दिन और घंटे के अनुसार निम्नलिखित सूचना अनिवार्य रूप से हो ।

दिनांक              विषय       कुल छात्र संख्या

कक्षा               यूनिट       उपस्थित छात्र संख्या

कक्षा अध्यापक         पाठ      अनुपस्थित छात्रों की संख्या

विषय अध्यापक                 छुट्टी पर छात्रों की संख्या

घंटा

सूचना हिंदी व अंग्रेजी दोनों में हो ।

१०) पानी पीने/ शौचालय जाने वाले छत्रों के पास हर बार आउट पास होना चाहिये ।

११) प्रत्येक कक्षा के पास लडकों और लडकियों के लिये एक एक आउट पास हों । आउट्पास पर कक्षा अध्यापक मॉनीटर व प्राचार्य के हस्ताक्षर हों ।

VI अध्यापकों /सह कक्षा अध्यापकों के अन्य कर्तव्य

1)सभी अध्यापक सह कक्षा अध्यापक अपनी कक्षा के छात्रों का पाठ्यसहगामी क्रियाओं में भाग लेना सुनिश्चित करें

2)कक्षा में होने वाली गतिविधियों में भी छात्र प्रतिभागी हों ।

३) सभी छात्र के.वि. के एज्युकेशन कोड अनुच्छेद ६० के अनुसार अनुशासन का पालन करें ।

४‌) छात्रों के पास आवश्यक पाठ्यपुस्तकें व कॉपियों का होना सुनिश्चित करें ।

५)गृह कार्य व कक्षा कार्य का पूरा होना सुनिश्चित करें ।

६)सामान्य व्यवहार और मूल्यों के विषय में छात्रों का मार्गदर्शन करें ।

७) अभिभावकों से सम्पर्क करने के लिये अपने पास उनके नम्बर रखें ।

८) सीसीई के अंतर्गत होने वाले विभिन्न परीक्षाओं के परिणाम तैयार करें और उन्हे संभालकर रखें ।

९)छात्रों की बेहतरी के लिये के.वि.सं. द्वारा तथा प्राचार्य से प्राप्त किये गये अन्य दिशा निर्देशों को लागू करें सभी कक्षा   अध्यापक /सहायक कक्षा अध्यापक सूचना तथा उअसके अनुपालन के लिये नोट करें।

  • नोट बुक(कक्षा और गृह कार्य) जांच समय सारिणी
  • विषय शिक्षकों को सूचित किया जाता है कि वे जांच हेतु निम्नलिखित समय सारिणी के अनुसार अपने संबंधित विषयों की उत्तर –पुस्तिका अधोहस्ताक्षारी को भेजे

दिनांक / दिन

विषय

कक्षा

महीने के पहले हफ्ते

सोमवार

अंग्रेज़ी

1 - 5

मंगलवार

हिंदी

1 - 5

बुधवार

संस्कृत

1 - 5

बृहस्पतिवार

गणित

1 - 5

शुक्रवार

विज्ञान

1 - 5

शनिवार

सामाजिक विज्ञान.

1 - 5

महीने के दूसरे सप्ताह

सोमवार

अंग्रेज़ी

6-8

मंगलवार

हिंदी

6-8

बुधवार

संस्कृत

6-8

बृहस्पतिवार

गणित

6-8

शुक्रवार

विज्ञान

6-8

शनिवार

सामाजिक विज्ञान.

6-8

महीने के तीसरे सप्ताह

सोमवार

अंग्रेज़ी

9-10

मंगलवार

हिंदी

9-10

बुधवार

संस्कृत

9-10

बृहस्पतिवार

गणित

9-10

शुक्रवार

विज्ञान

9-10

शनिवार

सामाजिक विज्ञान.

9-10

महीने के चौथे सप्ताह

सोमवार

भौतिक विज्ञान

11-12

मंगलवार

रसायन शास्त्र

11-12

बुधवार

गणित/ जीवविज्ञान

11-12

बृहस्पतिवार

कम्प्यूटर / हिन्दी

11-12

शुक्रवार

कला / संगीत / SUPW

1-10

शनिवार

कम्प्यूटर/ शारीरिक शिक्षा / अंग्रेजी( बोलचाल )

1-10

सभी शिक्षकों को सूचना और अनुपालन के लिए ध्यान दें.

प्राचार्य

  • सीबीएसई में शैक्षिक उत्कृष्टता के लिए कार्य योजना

सभी शिक्षकों को के. वी. एस बेंचमार्क के रूप में तय न्यूनतम पीआई के साथ 100% गुणवत्ता परिणाम प्राप्त करने के निम्नलिखित सुझाव दिये जाते है:-

क्रमांक

शैक्षणिक विंदु

कार्य योजना

1

शिक्षार्थियों हेतु सहायक उपचार

सहायक शिक्षार्थियों की पहचान करना। सहायक शिक्षार्थियों के कमजोर और मजबूत क्षेत्रों के व्यक्तिगत निदान विषयवार और वर्ग वार पहले कार्यकाल टेस्ट, पहले प्री - बोर्ड परीक्षा और क्लास टेस्ट के आधार पर उपचारात्मक कार्यक्रम बनाना । अवधारणाओं को स्पष्ट कर गहन अभ्यास प्रदान करना । प्रत्येक विषय में कम से कम 100 तथ्यपरक प्रश्न अभ्यास हेतु देना ।

2

पुनरावृत्ति कार्यक्रम

नियोजित पुनरावृत्ति कार्यक्रम: पुनरावृत्ति के दौरान कठिन अध्यायों पर जोर दिया जाये ।अध्याय/उपध्याय अधारित नियमित लिखित कक्षा परीक्षा आयोजित कराना तथा उनसे सम्बंधित आलेखो को सुरक्षित रखे । समय पर मूल्यांकन एवम   छात्रोंकी   त्रुटियों का निदान करना ।शिक्षक छात्रों को अभ्यास मॉड्यूल और प्रश्न बैंक प्रदान कर उन्हे अभ्यास के लिये प्रेरित करे। छात्रों को प्रश्न पत्र के प्रारूप औरप्रश्नो को हल करने की कला भी बताये।

3

लेखन अभ्यास

संचार कौशल का सुदृढ़ीकरण: पढ़ने और लेखन कौशल का कठोर अभ्यास कराना. छात्रों को दैनिक आधार पर लिख कर सीख, समझ और प्रभावी स्व - अध्ययन के लिये प्रेरित करना । छात्रों को कम से कम दो पैराग्राफ प्रतिदिन अभ्यास हेतु दिया   जाना चाहिए.

4

अध्ययन सामग्री

छात्रों को सभी आवश्यक अध्ययन सामग्री प्रदान करना :   नमूना प्रश्न - पत्र, संदर्भ पुस्तकें, शैक्षिक मॉड्यूल, शैक्षिक सी. डी. आदि उपलब्ध कराये । कक्षा X के विज्ञान विषय मे कम से कम 100 बहुविकल्पीय प्रश्न अभ्यास के लिये दिये जाये ।

5

कक्षा के दौरान प्रश्न पूछना

इंटरएक्टिव शिक्षण की प्रक्रिया अपनाना और छात्रों को प्रश्न करने के लिए प्रोत्साहित करना ।

6

अध्ययन के दत्तक ग्रहण

विषय शिक्षकों की निगरानी मे मेधावी छात्रों के साथ सहायक शिक्षार्थियों का समूहीकरण करना तथा उनकी   प्रगति की नियमित समीक्षा करना ।

7

संवर्धन कार्यक्रम

गुणवत्तापरक परिणामों के लिए मेधावी छात्रों के लिए संवर्धन कार्यक्रम आयोजित करना, विशेष कार्य देना और अतिरिक्त अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराना ।   प्रत्येक विषय मे कम से कम 100 बहुविकल्पीय प्रश्न छात्रों को अभ्यास के लिये दिये जाये ।

8

समय प्रबंधन शिक्षण.

छात्रों को सभी विषयो के प्रश्नप्रारूप ,अंक योजना ,अंक भार ,शब्द सीमा ,उत्तर देने के तरीके ,समय प्रबंधन इत्यादि के बारे में प्रशिक्षण देना

9

परामर्श

छात्रों में विश्वास पैदा करने के लिए और परीक्षा के भय को दूर करने के लिए उन सब को भावनात्मक समर्थन और उचित परामर्श दे ।

10.

संसाधन का आदान - प्रदान

कुछ विषयों में जहां अतिरिक्त सामग्री की आवश्यकता है, पड़ोसी केन्द्रीय विद्यालयों से शिक्षकों को विशेष मार्गदर्शन और प्रशिक्षण हेतु संपर्क किया जा सकता है.

11.

माता पिता की भूमिका.

सहायक शिक्षार्थियों के प्रदर्शन की सूचना उनके माता पिता को देना और उनके सहयोग की मांग करना ।

प्रभारी प्राचार्य

केंद्रीय विद्यालय रंगापहाड कैंट